याद

​ख्वाबों के बिस्तर से समेट रहा हूँ  कुछ पल सुनहरे  तेरे और मेरे, वो पल जिसमे प्यार था और ख़ुशी थी प्यार भरी बातें थी प्यारी सी…… Read more “याद”

कैदी

​मेरी आरज़ू कैद है मेरे मन के पिंजरे में जैसे कोई पंछी जिसका नसीब ही उड़ना है उसके नसीब मे उड़ना नहीं छूना चाहती है गगन की…… Read more “कैदी”